Hasya Shayari | हास्य शायरी

Hasya Shayari

Hasya Shayari

मच्छर ने आपको काटा ये उसका जुनून था,
मच्छर ने आपको काटा ये उसका जुनून था,
फिर आपने वहाँ खुजाया ये आपका सुकून था,
चाह कर भी आप उसे मार नहीं पाये,
ग़ौर फ़रमाइये हुज़ूर चाह कर भी आप उसे मार नहीं पाये,
क्योंकि उसकी रगों में आप ही का ख़ून था।

___________

जिंदगी दिन प्रतिदिन मजदूर हुई जा रही है,
और लोग ‘इंजीनियर साहब’ कहके ताने दिए जा रहे हैं

___________

अर्ज़ किया है चुप-चाप चल रहा था मैं मंज़िल की ओर,
फिर ठेके पर नज़र पड़ी और हम गुमराह हो गए।
___________

प्यारा सा चेहरा, मीठी सी आवाज़;
मासूम सा दिल, स्वीट सी मुस्कान;
परफेक्ट पेर्सोनलिटी, खुसमिजाज अंदाज़;
ये तो हुई मेरी बात… और बताओ कैसे हो आप?
___________

अर्ज़ किया है:
वो कहती अपने भाइयों से, मेरे आशिक़ को यूँ ना पीटो;
ज़रा गौर फरमाइये:
वो कहती अपने भाइयों से, मेरे आशिक़ को यूँ ना पीटो;
बड़ा ज़िद्दी है ये कमीना, पहले कुत्ते की तरह घसीटो।
___________

Hasya Shayari

क्या बताए ग़ालिब वो गुस्से में भी हम पे रहम कर गई;
लगाया कस के चांटा और सर्दी में गाल गरम कर गई।
___________

मेरे इश्क की बोलिंग ने उसके दिल की विकेट बहुत उम्दा तरीके से गिराई;
तकदीर ऐसी हमारी, अंपायर उसका बाप निकला, जिसने ऊँगली नहीं उठाई!
____________

धन से बेशक गरीब रहो पर दिल से रहना धनवान;
अक्सर झोपडी पे लिखा होता है सुस्वागतम;
और महल वाले लिखते है कुत्ते से सावधान।
_____________

हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी, कि हर ख्वाहिश पे Rum निकले;
जी भर के कभी ना पी पाया, क्योंकि जेब में पैसे कम निकले।
______________

जब तुम अंगडाई लेते हो, हमारा दम निकल जाता है;
ऐ ज़ालिम, ये बता नहाने में तुम्हारा क्या जाता है।
______________

तेरे ग़म में तड़प कर मर जायेंगे;
मर गए तो तेरा नाम ले जायेंगे;
रिश्वत देकर तुझे भी बुलायेंगे;
तुम ऊपर आओगे तो साथ बैठकर कुरकुरे खायेंगे।
______________

Hasya Shayari

हीर रो-रो कर रांझे से कह रही है;
हीर रो-रो कर रांझे से कह रही है;
.
.
.
.
.
हाथ छोड़ कमीने मेरी नाक बह रही है।
______________

न वफ़ा का ज़िक्र होगा;
न वफ़ा की बात होगी;
अब मोहब्बत जिस से भी होगी;
राखी के बाद होगी।
_______________

हमारे ऐतबार की हद ना पूछ ग़ालिब;
उसने दिन को रात कहा और हमने पैग बना लिया।
_______________

तुम्हारी अदाओं पे मैं वारी-वारी;
तुम्हारी अदाओं पे मैं वारी-वारी;
क्या उधर लाइट आ री?
इधर तो आ री – जा री, आ री – जा री!
_______________

ऐ दोस्त बांध ले कफन मे व्हिस्की की बोतल, कब्र मेँ बैठकर पिया करेगे;
इन लङकियो से तो मिली बेवफाई, अब चुड़ैलों से सेटिंग किया करेंगे!
_______________

अर्ज़ किया है:
मेरे इश्क के बालिंग ने उसके दिल का विकेट गिरा दिया;
पर तक़दीर तो देखो, उसका बाप अंपायर निकला;
.
.
.
मेरी बाल को “नो बाल” देकर फ्री हिट कर दिया!
_______________

हास्य – Humour in Hindi

जो तुमको हो पसंद वही बात कहेंगे;
गौर फरमाइये:
​जो तुमको हो पसंद वही बात कहेंगे;
​क्योंकि हम पागलों से बहस नहीं करते।
________________

​फ़िज़ाओं के बदलने का इंतजार मत कर;
आँधियों के रुकने का इंतजार मत कर;
​पकड़ किसी को और फरार हो जा;
​पापा की पसंद का इंतजार मत कर।
________________

तुम्हे जब देखा हमने तो यह ख्याल आया;
बड़ी जल्दी में रब था जब तुमको बनाया;
तुम्हे जब देखा रब ने तो वो भी घबराया;
बनाना क्या था मुझको है मैंने क्या बनाया। ​
_______________

Hasya Shayari

​मेरे दोस्त तुम भी लिखा करो शायरी;​
तुम्हारा भी मेरी तरह नाम हो जाएगा;​
जब तुम पर भी पड़ेंगे अंडे और टमाटर;​​
​तो शाम की सब्जी का इंतज़ाम हो जाएगा।
________________

​ना वक्त इतना हैं कि सिलेबस पूरा किया जाए​;​
ना तरकीब कोई की एग्जाम पास किया जाए​;​
ना जाने कौन सा दर्द दिया है इस पढ़ाई ने​;​
ना रोया जाय और ना सोया जाए​।
________________

धोखा मिला जब प्यार में;​
जिंदगी में उदासी सी छा गई;​​
सोचा था छोड़ देंगे इस राह को;​
कम्भख्त मोहल्ले में दूसरी आ गई।
________________

रिश्वत भी नहीं लेता कम्बखत जान छोड़ने की;
यह तेरा इश्क़ भी मुझे केजरीवाल लगता है!
_______________

हास्य शायरी ( Hasya Shayari )

किस किस का नाम लें, अपनी बरबादी मेँ;
बहुत लोग आये थे दुआयेँ देने शादी मेँ!
_______________

ऐसी वाणी बोलिये कि सब से झगडा होए;
ऐसी वाणी बोलिये कि सब से झगडा होए;
पर उस से झगडा ना करें जो आप से तगड़ा होए!
_______________

हंसी के लिए गम कुर्बान;
ख़ुशी के लिए आंसू कुर्बान;
दोस्त के लिए जान भी कुर्बान;
और
अगर दोस्त की गर्लफ्रेंड मिल जाए तो;
साला दोस्त भी कुर्बान।
_______________

Also Read-  Love Shayari | प्यार की शायरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *